Wednesday, April 21, 2021
Home Sport 2020 में आखिर 5 खिलाड़ियों को क्यों मिलेगा खेल रत्न अवॉर्ड?

2020 में आखिर 5 खिलाड़ियों को क्यों मिलेगा खेल रत्न अवॉर्ड?

भारत का सर्वोच्च खेल पुरस्कार राजीव गांधी खेल रत्न को कहा जाता है। हर खिलाड़ी का सपना होता है कि वह एक बार जरूर खेल रत्न अवार्ड से सम्मानित किया जाए। राजीव गांधी खेल रत्न का प्रारंभ 1991-92 हुआ था। यह पुरस्कार सबसे पहले विश्वनाथ आनंद जो शतरंज के ग्रैंड मास्टर थे उनको दिया गया था। इस पुरस्कार की राशि 7.5 लाख रुपए होती है। 

और यह प्रत्येक वर्ष खिलाड़ियों को दिए जाते हैं। 2020 में खिलाड़ियों को सम्मानित किया गया है। इतने सारे खिलाड़ियों में से केवल पांच सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ियों को चुना गया है। इस साल क्रिकेटर रोहित शर्मा, विनेश फोगाट, मरियप्पन, मनिका बन्ना, रानी रामपाल को खेल रत्न पुरस्कार से सम्मानित किया जाएगा। 

इन पांच सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ियों में से रानी रामपाल को हॉकी के क्षेत्र में यह मिला, रोहित शर्मा को क्रिकेट के क्षेत्र में यह मिला, विनेश फोगाट को पहलवानी के क्षेत्र में, मनिका बत्रा को टेबल टेनिस के क्षेत्र में, और मरियप्पन को पैरालंपियन क्षेत्र में राजीव गांधी खेल रत्न से सम्मानित किया गया।आपकी जानकारी के लिए बता दें कि भारत के इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ है जब एक साथ 5 सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ियों को एक साथ खेल रत्न से सम्मानित किया जा रहा है। 

हालांकि 2016 में एक साथ चार सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ियों को खेल रत्न से सम्मानित किया गया था। 2016 में ओलंपिक खेलों को आयोजन किया गया था तो लोगों का कहना था कि शायद इसी कारण से चार खिलाड़ियों को खेल रत्न से सम्मानित किया गया था। भारत इतिहास में ज्यादातर यही हुआ है कि खेल रत्न पुरस्कार से एक या दो सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ियों को ही सम्मानित किया गया है। 

परंतु 2020 महीना तो ओलंपिक गेम का आयोजन हुआ और ना ही कोई बड़ा इवेंट आयोजित किया गया है इसके बावजूद भी सबसे ज्यादा खिलाड़ियों को इस बार खेल रत्न से सम्मानित किया जा रहा है। रोहित शर्मा चौथी क्रिकेटर बन चुके हैं जिन्हें राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार से सम्मानित किया गया इससे पहले महेंद्र सिंह धोनी, सचिन तेंदुलकर और विराट कोहली को भी इस राजीव गांधी खेल रत्न मिल चुका है।

यह भी पढ़ें- क्या है आपके लिए खास?

विवाद

खेल रत्न पुरस्कार के पीछे कई चीजें जुड़ी हुई है जो विवाद का कारण बन रही हैं। विवाद अधिकतर इसी तरह के होते हैं कि हर खिलाड़ी अपने को खेल रत्न के लिए नहीं चुने जाने का आरोप लगाता है और कमेटी से तू तू-मैं मैं करता है। अवार्ड के लिए चुने जाने वाले आंकड़ों में पारदर्शिता होना चाहिए ताकि पता चल सके कौन खेल रत्न पाने के लायक है। जिस तरह से ओलंपिक में गोल्ड के लिए 80 सिल्वर के लिए 70 और ब्रॉन्ज मेडल के लिए 55 अंक होते हैं इसी प्रकार खेल रत्न में भी कुछ ऐसा नियम होना चाहिए।

यह भी पढ़ें- जिम के बाहर स्पॉट हुईं Khushi Kapoor, अजीबो गरीब ड्रेस में आईं नजर

खेल मंत्रालय लगाता है आखिरी मुहर

कॉमेडी द्वारा सिलेक्शन होकर खिलाड़ियों को भारत के खेल मंत्रालय द्वारा आखिरी मुहर लगाकर खेल रत्न से सम्मानित किया जाता है। यह सवाल उठ रहा है कि इस साल 5 खिलाड़ियों को खेल रत्न क्यों दिया जा रहा है? हालांकि अभी इस सवाल का खुलासा नहीं हो सका है।

यह भी पढ़ें- पांच माह की बच्ची को लगेगा 22 करोड़ का इंजेक्शन, परिवार ने ऐसे जुटाए पेसे

Apni Khabarehttps://apnikhabare.com
Apni khabare brings articles, news and views in Hindi in the best way. We bring you special news regularly. Follow us for similar news

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular